Saturday, December 15, 2018
यूपीएससी / पीसीएस

सही रणनीति के साथ बढ़ाएं कदम

सही रणनीति के साथ बढ़ाएं कदम

 यूपीएससी सीएपीएफ असिस्टेंट कमांडेंट परीक्षा

संघ लोक सेवा आयोग प्रतिष्ठित परीक्षाओं के आयोजन के लिए जाना जाता है. पिछले दिनों आयोग ने सेंट्रल ऑर्म्ड पुलिस फोर्सेस असिस्टेंट कमांडेंट परीक्षा की घोषणा की है. इसके माध्यम से सेंट्रल पैरामिलिट्री फोर्सेस में ऑफिसर बनने का मौका मिलता है. कैसी है यह परीक्षा और कैसे करें इसकी तैयारी, इस संबंध में जानकारी दे रहा है यह अंक.
 
विषम परिस्थितियों में अपने देश की रक्षा करने का जुनून जिन युवाओं के भीतर है, उनके लिए सेंट्रल पैरामिलिट्री फोर्सेज में ऑफिसर के रूप में कैरियर बनाने का यह बेहतरीन मौका है. इसके लिए संघ लोक सेवा आयोग ने भर्ती विज्ञापन जारी कर आवेदन प्रक्रिया शुरू कर दी है. सेंट्रल ऑर्म्ड पुलिस फोर्सेस (सीएपीएफ) में कई पुलिस फोर्सेस शामिल हैं, जिनमें मुख्य हैं- सेंट्रल इंडस्ट्रियल सिक्योरिटी फोर्स (सीआइएसएफ), सेंट्रल रिजर्व पुलिस फोर्स (सीआरपीएफ), सशस्त्र सीमा बल (एसएसबी), बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स (बीएसएफ) व इंडो-तिब्बत बॉर्डर पुलिस (आइटीबीपी).
पुरुष, महिला दोनों कर सकते हैं आवेदन
 
सीआइएसएफ, सीआरपीएफ, एसएसबी, बीएसएफ में पुरुष और महिलाएं दोनों नौकरी प्राप्त कर सकते हैं, लेकिन, आइटीबीपी में सिर्फ पुरुषों को ही मौका मिलेगा.
क्या है परीक्षा का प्रारूप
 
संघ लोक सेवा आयोग असिस्टेंट कमांडेंट (एसी) की पहले परीक्षा लिखित होती है. इसे पास करने के बाद शारीरिक क्षमताओं की जांच के लिए फिजिकल टेस्ट आयोजित किया जाता है. इसके बाद इंटरव्यू का सामना करना पड़ता है. अंत में मेरिट लिस्ट तैयार की जाती है. लिखित परीक्षा में निगेटिव मार्किंग का प्रावधान है.
 
लिखित परीक्षा : लिखित परीक्षा में दो पेपर होते हैं. दोनों पेपर एक ही दिन में आयोजित किये जाते हैं. पहला पेपर जनरल एबिलिटी और इंटेलीजेंस का होता है. इसके लिए दो घंटे और 250 अंक निर्धारित किये गये हैं. यह सुबह 10 से 12 बजे तक आयोजित किया जायेगा. इसमें प्रश्न हिंदी और अंग्रेजी दोनों भाषाओं में पूछे जाते हैं. यह पेपर वस्तुनिष्ठ प्रकार का होता है. पहला पेपर पास करने के बाद ही दूसरे पेपर की जांच की जाती है. इसलिए पहले पेपर में क्वालिफाइंग अंक प्राप्त करना अनिवार्य है.
 
 दूसरा पेपर भी वस्तुनिष्ठ प्रकार का होता है. यह पेपर दोपहर दो से पांच बजे तक आयोजित किया जायेगा. यह 200 अंकों का पेपर है. निबंध के लिए 80 और अन्य टॉपिक्स के लिए 120 अंक निर्धारित किये गये हैं. लिखित परीक्षा पास करने के बाद युवाओं को फिजिकल टेस्ट का सामना करना पड़ता है. परीक्षा की इस सीढ़ी में उम्मीदवारों के वजन और लंबाई की भी जांच की जाती है.
कैसे करें तैयारी
 
< पहला पेपर जनरल मेंटल एबिलिटी टेस्ट का होता है. इसमें गणित से पूछे जानेवाले प्रश्न दसवीं स्तर के होते हैं. इसलिए इसकी तैयारी के लिए बेसिक मैथ्स के पुस्तकों की मदद लें. इस सेक्शन में अलजेब्रा, ट्रिग्नोमेट्री, ज्योमेट्री, मैन्सुरेशन, रीजनिंग आदि के प्रश्न आते हैं. रीजनिंग में खासतौर से कोडिंग–डिकोडिंग, सिटिंग अरेंजमेंट, ब्लड रिलेशन, वैन डायग्राम से प्रश्न पूछे जाते हैं, साथ ही पजल टेस्ट भी शामिल होता है. इन सभी टॉपिक से विद्यार्थियों की मानसिक क्षमता का आकलन किया जाता है.
 
< दूसरा पेपर भी वस्तुनिष्ठ प्रकार का होता है. सभी पेपर अंग्रेजी में होते हैं. इसमें बेसिक साइंस से प्रश्न पूछे जाते हैं. इसके लिए दसवीं स्तर के विज्ञान की पुस्तकों से पढ़ाई करें. इनसे पढ़ाई करना बेहतर परिणाम दिलाता है.  इस पेपर में इतिहास, भूगोल, राजनीतिशास्त्र, अर्थशास्त्र, समसामयिकी, अंग्रेजी, जनरल साइंस के प्रश्न पूछे जाते हैं. इंग्लिश में कॉम्प्रीहेंशन, एस्से, एनोनिम्स, सिनोनिम्स, अरेंज द ऑर्डर ऑफ सेंटेंस आदि चीजें पूछी जाती हैं.