Friday, June 23, 2017
स्टडी मटेरिल

यूपीएससी: अखिल भारतीय व केंद्रीय सेवा की परीक्षा 18 को, पीटी में सफलता के लिए ज्ञान का सही उपयोग आवश्यक

यूपीएससी: अखिल भारतीय व केंद्रीय सेवा की परीक्षा 18 को, पीटी में सफलता के लिए ज्ञान का सही उपयोग आवश्यक

संघ लाेक सेवा आयोग द्वारा अखिल भारतीय सेवा और केंद्रीय सेवा में अधिकारी पद पर नियुक्ति के लिए 18 जून को प्रारंभिक परीक्षा ली जा रही है. प्रारंभिक परीक्षा क्वालिफाइंग होती है. इसमें सफल प्रतियोगी मुख्य परीक्षा में हिस्सा लेते हैं. प्रारंभिक परीक्षा को ही सिविल सेवा का प्रवेश द्वार कहा जाता है.

प्रारंभिक परीक्षा में दो पेपर होंगे. प्रथम और द्वितीय पेपर 200-200 अंकों का होगा़  पहले पेपर में सामान्य अध्ययन के वस्तुनिष्ठ 100 प्रश्न होंगे. वहीं दूसरे पेपर में एप्टीट्यूड टेस्ट के 80 प्रश्न होंगे. इसमें संरचनात्मक अभियोग्यता, तर्कशक्ति व अंगरेजी से प्रश्न होंगे. दूसरा पेपर क्वालिफाइंग होगा. इसमें 1/3 अंक प्राप्त करने की आवश्यकता होगी.

प्रथम पत्र में लाये गये अंकों के आधार पर मुख्य परीक्षा में शामिल होने की वरीयता तय की जायेगी. प्रथम पत्र में इतिहास, भूगोल, संविधान, शासन, पंचायती मुद्दे, समसामयिकी, अर्थव्यवस्था, राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय मुद्दे, विज्ञान प्रोद्याेगिकी व पर्यावरणीय मुद्दों पर अाधारित प्रश्न होंगे.

इसका रखें ख्याल 

स्वयं को मनोवैज्ञानिक तरीके से मजबूत रख प्रसन्न रहें. परीक्षा को दबाव में मत लें.

अपनी सफलता के संदर्भ में सकारात्मक सोच रखें. स्वयं पर विश्वास रखें.

परीक्षा के लिए दिये गये निर्देशों को ध्यानपूर्वक पढ़ें और उनका पालन करें. राेल नंबर, बुकलेट नंबर आदि सावधानी पूर्वक भरें.

संघ लोक सेवा आयोग के प्रश्नों को समझें और सही निष्कर्ष निकालते हुए उत्तर का चयन करें.

एक प्रश्न गलती करने पर 1/3 अंक काट लिये जाते हैं, अत: जिन प्रश्नों के उत्तर में आत्मविश्वास दिखायी न दें, उसे छाेड़ दें.

यह भी जानें

पिछली बार की परीक्षा में सामान्य वर्ग के वैसे छात्र जिन्होंने 58 फीसदी सही उत्तर दिया था, वे सफल हुए थे. उसी तरह ओबीसी से 48 फीसदी, एससी-एसटी से 45 फीसदी सही जवाब देने वाले छात्रों का चयन हुआ था. इसलिए सामान्य वर्ग के छात्रों को पहले पेपर में 65 फीसदी प्रश्नों का उत्तर देना सही होगा. प्रारंभिक परीक्षा में सफलता के लिए ज्ञान के साथ ज्ञान का सही उपयोग आवश्यक है.