Sunday, November 19, 2017
अन्य

भारतीय नौसेना में प्रवेश के कई हैं विकल्प

भारतीय नौसेना में प्रवेश के कई हैं विकल्प
आप ऐसे कैरियर विकल्प  की तलाश में हैं, जिसमें नयी चुनौतियां, रोमांच और देशभक्ति भी शुमार हो, तो आप भारतीय नौसेना की ओर रुख कर सकते हैं. नौसेना में ऑफिसर के तौर पर प्रवेश की राहें 12वीं के बाद ही खुल जाती हैं. ग्रेजुएट अभ्यर्थियों के लिए भी कई मौके हैं यहां. नौसेना में मौजूद कैरियर विकल्पों के बारे में जानिये विस्तार से.  
 
भारतीय सशस्त्र बल के तीन अंगों में से एक भारतीय नौसेना अपनी विभिन्न शाखाओं में भरती के लिए समय-समय पर पुरुष एवं महिला अभ्यर्थियों से  आवेदन आमंत्रित करती है.
 
एक सामान्य नौसैनिक के तौर पर 10वीं के बाद एवं एक ऑफिसर के तौर पर सांइस से 12वीं या  ग्रेजुएशन पूरा कर नौसेना में शामिल हुआ जा सकता है. मैथ्स साइंस  से 12वीं करनेवाले अभ्यर्थियाें को नौसेना 10+2 (बीटेक) कैडेट प्रवेश योजना (स्थायी कमीशन) का बेहतरीन मौका देती है. 
 
बनें नौसेना में अधिकारी 
 
नौसेना अधिकारी प्रवेश योजना में शॉर्ट सर्विस कमीशन एवं स्थायी कमीशन, दोनों के तहत अभ्यर्थियों की भरती की जाती है. अधिकारी प्रवेश योजना में कई शाखाओं में कैरियर के विकल्प हैं, जैसे एग्जिक्यूटिव, इंजीनियरिंग, इलेक्ट्रिकल, एजुकेशन एवं मेडिकल ब्रांच. एग्जिक्यूटिव ब्रांच में सबसे अधिक मौके होते हैं. इसमें सामान्य सैन्य ऑफिसर, हाइड्रोग्राफी ऑफिसर, डाइविंग अाॅफिसर, पायलट ऑफिसर, लॉ ऑफिसर, लॉजिस्टिक्स ऑफिसर, सब मरीन ऑफिसर, ऑब्जर्वर ऑफिसर आदि के तौर पर आगे बढ़ा जा सकता है. इंजीनियरिंग ब्रांच में इंजीनियरिंग सामान्य सेवा ऑफिसर एवं नेवल कंस्ट्रक्शन ऑफिसर के तौर पर नियुक्ति की जाती है. इलेक्ट्रिकल ब्रांच सामान्य सेवा ऑफिसर एवं पनडुब्बी इलेक्ट्रिकल ऑफिसर एवं एजुकेशन ब्रांच एजुकेशन ऑफिसर के तौर पर कैरियर शुरू करने का मौका देता है. मेडिकल की डिग्री रखनेवाले अभ्यर्थी नौसेना में भी डाॅक्टर के तौर पर कैरियर शुरू करते हैं. 
 
जानें, कैसे होता है चयन 
 
नौसेना में ऑफिसर के तौर पर स्थायी कमीशन के लिए 10+2 एनडीए/ इंडियन नेवल एकेडमी कैडेट एंट्री एवं सीडीएसइ (ग्रेजुएट) एंट्री के तहत यूपीएससी की ओर से आयोजित लिखित परीक्षा एवं सर्विस सलेक्शन बोर्ड (एसएसबी) की ओर से लिए जानेवाले इंटरव्यू से गुजरना होता है. अन्य स्थायी  कमीशन एवं शॉर्ट सर्विस कमीशन की भरती के लिए लिखित परीक्षा नहीं ली जाती, मेरिट के आधार पर चयन किया जाता है. 
 
कौन कर सकते हैं आवेदन 
 
एग्जिक्यूटिव ब्रांच में फिजिक्स, केमिस्ट्री एवं मैथ्स से 12वीं, किसी भी डिसीप्लीन में प्रथम श्रेणी में बीइ/बीटेक, लाॅ डिग्री, बीकॉम/ बीएससी/ बीएससी(आइटी) के साथ फाइनेंस/ लाॅजिस्टिक्स/सप्लाइ चेन मैनेजमेंट में पीजी डिप्लोमा या एमसीए/एमससी(आइटी), एमबीए की डिग्री रखनेवाले अभ्यर्थियों के लिए मौके हैं. इंजीनियरिंग एवं इलेक्ट्रिकल ब्रांच के लिए फिजिक्स, केमिस्ट्री एवं मैथ्स से 12वीं के साथ विभिन्न इंजीनियरिंग डिसीप्लीन में प्रथम श्रेणी में बीइ/बीटेक होना चाहिए. एजुकेशन ब्रांच के लिए फिजिक्स या मैथमेटिक्स में सेकेंड क्लास  मास्टर डिग्री, इकोनॉमिक्स/हिस्ट्री/ पॉलिटिकल साइंस में पोस्ट ग्रेजुएट डिग्री, मेकेनिकल/ इलेक्ट्रिकल/ कंप्यूटर साइंस/ टेक्नोलॉजी में डिग्री रखनेवाले अभ्यर्थी आवेदन कर सकते हैं. मेडिकल ब्रांच में मेडिकल काउंसिल ऑफ इंडिया से मान्यता प्राप्त मेडिकल डिग्री, पीजी डिग्री, डिप्लोमा रखनेवाले अभ्यर्थियों के साथ बीएससी, बीडीएस, एमडीएस डिग्री रखनेवालों के लिए भी अवसर हैं.
 
चिकित्सा जांच एवं आयु सीमा है अहम 
 
नौसेना में प्रवेश के लिए ली जानेवाली परीक्षा एवं साक्षात्कार के अलावा चिकित्सा जांच एवं शारीरिक मापदंड  भी चयन प्रक्रिया का एक अहम हिस्सा है. इसकी विस्तृत जानकारी पद के अनुसार इंडियन नेवी की वेबसाइट में उपलब्ध है. इसके साथ ही आप वेबसाइट से पद के अनुसार तय आयु सीमा एवं वैवाहिक स्थिति की जानकारी भी प्राप्त कर सकते हैं. 
 
वेबसाइट : http://nausena-bharti.nic.in/index.php
 
नौसैनिक के तौर पर कर सकते हैं शुरुआत
 
नौसेना में 10वीं एवं 12वीं पास अभ्यर्थियों के लिए भी जॉब पाने के मौके उपलब्ध हैं. साइंस से 12वीं करने बाद आर्टिफिसर अप्रेंटिस के लिए आवेदन कर सकते हैं. आर्टिफिसर अप्रेंटिस के लिए चयन हाेने पर आइएनएस चिल्का में नौ सप्ताह का बुनियादी प्रशिक्षण, आठ सप्ताह का समुद्री प्रशिक्षण एवं इसके बाद चार वर्ष का तकनीकी प्रशिक्षण दिया जाता है. 
 
प्रशिक्षण सफलतापूर्वक पूरा करने के बाद 20 वर्ष के लिए आर्टिफिसर अप्रेंटिस नौसैनिक के तौर नियुक्ति  मिलती है. सीनियर सेकेंडरी भरती के तहत ऐसे अभ्यर्थी आवेदन कर सकते हैं, 12वीं में जिनके फिजिक्स एवं मैथ्स नियमित और केमिस्ट्री या बायो या कंप्यूटर वैकल्पिक विषय हों. चयन के बाद 24 हफ्ते का बुनियादी प्रशिक्षण दिया जाता है. 
 
प्रशिक्षण सफलतापूर्वक पूरा होने पर सीनियर सेकेंडरी रिक्रूट नौसैनिक की प्रारंभिक नियुक्ति 15 वर्ष के लिए होती है. मैट्रिक भरती और नॉन मैट्रिक भरती के अंतर्गत एमआर-स्टूअर्ड/ कुक के लिए 10वीं एवं एनएमआर टोपाज के लिए छठवीं पास अभ्यर्थी आवेदन कर सकते हैं. नौसेना में संगीतज्ञ की भी नियुक्ति की जाती है, जिसके लिए आवश्यक योग्यता की जानकारी नौसेना की वेबसाइट में विस्तार से दी गयी है.