Sunday, September 24, 2017
एमबीए

एमबीए के लिए रखें सही जानकारी

एमबीए के लिए रखें सही जानकारी

 

मास्टर ऑफ बिजनेस मैनेजमेंट यानी एमबीए का युवाओं के बीच काफी क्रेज रहता है. प्लस थ्री की पढ़ाई करने वाले लगभग हर युवा की यह इच्छा होती है कि वह आइआइएम जैसे बेहतरीन बी-स्कूल्स से पढ़ाई कर, बेहतरीन कॉरपोरेट लाइफ जीये. हाल के दिनों में लिंक्डइन समेत कई वेबसाइट में इस बात की चर्चा चली कि एमबीए करना किनके लिए लाभप्रद है. फ्रेशर के लिए या फिर वैसे लोगों के लिए जो कहीं न कहीं काम कर रहे हैं. इसके पीछे कई तर्क सामने आये. एमबीए करना दोनों तरह के लोगों के लिए सही है, लेकिन आपको इसके लिए इससे जुड़ी तमाम जानकारियां जुटा लेनी चाहिए. इसमें अच्छे संस्थान से लेकर प्लेसमेंट तक शामिल है. 

एमबीए से क्या सीखते हैं : ऐसा जरूरी नहीं है कि सिर्फ एमबीए कर लेने से ही अच्छी सैलरी वाली जॉब मिल जाये. जब तक आप कॉरपोरेट कंपनियों को उनके काम के लायक नहीं समझ आते, वे आपको जॉब नहीं देते हैं. चाहें आप अनुभव के साथ-साथ एमबीए किये हों या फ्रेशर हों. एमबीए कोर्स में स्टूडेंट्स को कॉरपोरेट वर्ल्ड के प्रैक्टिकल अनुभव के साथ थ्योरी भी सिखायी जाती है. इससे आप कॉरपोरेट वर्ल्ड में चयनित होने के योग्य बनते हैं. आपकी अच्छी नौकरी व अच्छी सैलरी यहीं पर निर्भर करती है.  एमबीए के पॉपुलर विषयों में मार्केटिंग, फाइनांस, एचआर, ओपरेशंस, रूरल डेवलपमेंट, इंटरनेशनल बिजनेस व एग्री बिजनेस शामिल हैं. एडमिशन से पूर्व स्टूडेंट्स को यह भी जान लेना चाहिए कि वह एमबीए के लिए जिस विषय को चुन रहा है, उसके लिए बेहतरीन संस्थान कौन सा है. 

विषयवार प्रमुख संस्थान

मार्केटिंग  : आइआइएम, एफएमएस, एक्सएलआरआइ

फाइनांस : आइआइएम, एक्सएलआरआइ, एफएमएस

एचआर : एक्सएलआरआइ, आइआइएम, एफएमएस

ऑपरेशंस : आइआइएम, नरसी मोंजी

इंटरनेशनल रिलेशंस : आइआइएफटी, नयी दिल्ली

प्लेसमेंट पर ध्यान दें : आप एमबीए करने के लिए किस तरह के संस्थान का चयन करते हैं, यह बहुत जरूरी है. एक बेहतरीन संस्थान के चयन में आप अपने बजट का ध्यान रखें. इसके बाद लोकेशन बहुत मायने रखता है. कई बार सही लोकेशन नहीं चुन पाने पर बजट पर असर पड़ता है. इसके बाद विशेषज्ञता का विषय पर गौर करें. आप जिस विषय में विशेषज्ञता चाहते हैं, उसके अनुरूप बेहतरीन संस्थान कौन से हैं जानकारी रखें. सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा होता है प्लेसमेंट. यह बात विशेष रूप से गौर करें कि संस्थान की ओर से मिलने वाले प्लेसमेंट में पैकेज, प्रोफाइल और कंपनी के नाम के बीच बैलेंस का होना बहुत जरूरी है. 

चार तरह से कर सकते हैं एमबीए

फुल टाइम कोर्स : एमबीए का यह सबसे ज्यादा पॉपुलर कोर्स है. यह दो वर्षीय होता है. इस कोर्स को कार्य अनुभव रखने वाले और फ्रेशर दोनों ही कर सकते हैं.

डिस्टेंस कोर्स : एमबीए का यह कोर्स ऑनलाइन माध्यम से होता है.  इस कोर्स को ज्यादातर कार्य अनुभव रखने वाले लोग ही करते हैं. यह कोर्स भी दो वर्षों का होता है. 

पार्ट टाइम कोर्स : यह कोर्स तीन वर्षों का होता है. इसमें कोर्स के लिए क्लासेज करनी होती है. यह क्लास वीकेंड यानी शनिवार या रविवार को करायी जाती है. 

एमबीए एक्जीक्यूटिव : अनुभवी लोगों का इस कोर्स पर ज्यादा जोर रहता है. एक वर्ष का यह पाठ्यक्रम कई संस्थान कराते हैं. इस कोर्स को करने के लिए कॉरपोरेट वर्ल्ड में दो साल का कार्यानुभव होना जरूरी है.