Sunday, September 24, 2017
इंजीनियरिंग

जेईई एडवांस्ड-2018 की परीक्षा होगी ऑनलाइन, विद्यार्थियों को मिलेगी ट्रेनिंग

जेईई एडवांस्ड-2018 की परीक्षा होगी ऑनलाइन, विद्यार्थियों को मिलेगी ट्रेनिंग

 

देशभर के आइआइटी संस्थानों में प्रवेश के लिए होनेवाली परीक्षा जेईई एडवांस्ड अगले वर्ष यानी 2018 से ऑनलाइन होगी. जेईई एडवांस्ड के लिए क्वालिफाई करनेवाले सभी विद्यार्थियों को अब ऑनलाइन परीक्षा देनी होगी. इसके लिए विद्यार्थियों को तीन दिनों की ट्रेनिंग दी जायेगी. 

2 लाख वि्द्यार्थियों ने जेईई एडवांस्ड के लिए किया है क्वालिफाई

इस वर्ष 2017 में कुल 13 लाख विद्यार्थियों ने जेईई मेन्स की परीक्षा दी थी. इनमें से ऑनलाइन परीक्षा देनेवालों की संख्या 10 प्रतिशत से भी कम थी. इनमें से दो लाख ने जेईई एडवांस्ड के लिए क्वालिफाई किया था.

इस परीक्षा से विद्यार्थियों को मिलता है एडमिशन

जेईई मेन्स और जेईई एडवांस्ड की परीक्षा के जरिये विद्यार्थियों को आइआइटी, एनआइटी और केंद्रीय वित्त पोषित इंजीनियरिंग संस्थानों में एडमिशन मिलता है. इंजीनियरिंग संस्थानों में प्रवेश के लिए विद्यार्थियों को पहले जेईई मेंस की परीक्षा पास करनी होती है. इसके बाद जेईई एडवांस्ड की परीक्षा पास करनी होती है. सरकार ने जेईई मेन्स की परीक्षा में बैठने के लिए विद्यार्थियों को ऑनलाइन का विकल्प दिया था. ज्वाइंट एडमिशन बोर्ड (जेएबी) ने जेईई एडवांस्ड की परीक्षा में अब ऑनलाइन विकल्प को अनिवार्य कर दिया है.

जेईई मेन्स की परीक्षा होती है ऑनलाइन एवं ऑफलाइन

जेईई मेन्स की परीक्षा दो माध्यमों से ली जाती है. ऑनलाइन और ऑफलाइन. विद्यार्थी अपनी इच्छानुसार ऑनलाइन या ऑफलाइन परीक्षा में शामिल होते हैं.

विद्यार्थियों को मिलेगी ट्रेनिंग

जेईई एडवांस्ड 2018 की परीक्षा में शामिल होने वाले विद्यार्थियों को परेशान होने की जरुरत नहीं है. उनकी परेशानी को दूर करने के लिए भी कदम उठाये गये हैं. इन विद्यार्थियों को तीन दिनों की ट्रेनिंग दी जायेगी. यह ट्रेनिंग मॉक टेस्ट के जरिये होगी. इस संदर्भ में स्कूलों को सलाह दी गयी है कि वे अपने विद्यार्थियों को ट्रेनिंग लेने के लिए कंप्यूटर लैब का उपयोग करने की छूट दें. 

परीक्षा में आयेगी पारदर्शिता 

मानव संसाधन विकास मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने इस कदम का स्वागत किया है. उन्होंने कहा कि जेईई एडवांस्ड की परीक्षा अगले वर्ष से ऑनलाइन किये जाने से न सिर्फ परीक्षा में पारदर्शिता आयेगी बल्कि पेपर लीक की घटनाएं भी रुकेंगी.